महिला पुलिस अधिकारी रुपए लेते पकड़ाई तो दिखाने लगी अकड़

The female police officer caught taking money in Indore
कांस्टेबल सुनीता खत्री।

इंदौर। इंदौर लोकायुक्त पुलिस ने गुरुवार शाम संयोगितागंज थाने में दबिश दी। यहां महिला डेस्क प्रभारी व सहायक पुलिस निरीक्षक (एएसआई) अंजू बक्षी और कांस्टेबल सुनीता खत्री को लोकायुक्त पुलिस ने दो हजार की रिश्वत लेते रंगेहाथ पकड़ लिया। दहेज प्रताड़ना की शिकायत में केस से बचाने के लिए उन्होंने पांच हजार रुपए मांगे थे। आरोपी एएसआई बक्षी संयोगितागंज थाने की महिला डेस्क प्रभारी हैं और महिला आरोपी कांस्टेबल सुनीता यहीं पर पदस्थ है।

यह है मामला : लोकायुक्त पुलिस के डीएसपी बीएस परिहार ने बताया कि पालदा क्षेत्र के बाबूलाल नगर में रहने वाली चंदा पति राहुल विश्नोई ने महिला डेस्क पर लिखित शिकायत की थी कि उसकी सास रेखा, ससुर राजेश विश्नोई व देवर रोहित उसे दहेज के लिए प्रताड़ित कर रहे हैं। उसकी शादी पांच साल पहले हुई थी। इस पर यहां पदस्थ एएसआई अंजू बक्षी और महिला आरक्षक सुनीता खत्री ने उसके सास ससुर को बुलाया और मामले को रफा-दफा करने के लिए पांच हज़ार रुपए की मांग की। इस पर सास रेखा ने गुरुवार सुबह कार्यालय में शिकायत की थी कि उसे महिला डेस्क कार्यालय पर बयान के लिए बुलाया था। जब हमने कहा कि बहू ने शिकायत झूठी की है तो उन्होंने कहा कि यदि तुम इतने पैसे नहीं दोगे तो बड़ी कारवाई करके तीनों को जेल भिजवा देंगे। इसके एवज में उन्होंने पांच हजार रुपए मांगे।

ऐसे पकड़ी गईं दोनों : लोकायुक्त पुलिस ने फरियादी रेखा को टेप रिकाॅर्डर दिया और वह दोबारा महिला डेस्क प्रभारी के पास गई। वहां उसने कहा पांच हजार रुपए ज्यादा हैं। इतने पैसे उसके पास नहीं हैं। इस पर उसे कहा गया कि पांच हजार रुपए से कम नहीं होंगे। इसी बीच फरियादी रेखा ने पैसे निकाले। महिला एएसआई ने कहा इसे (महिला कांस्टेबल सुनीता) को दे दो। जैसे ही उसने पैसे दिए, सुनीता गिनने लग गई। तभी उसने कुछ लोगों (वे सिविल वर्दी में लोकायुक्त पुलिस अधिकारी थे) को आते देख पैसे टेबल की दराज में रख लिए। दराज में पैसे रखते ही लोकायुक्त इंस्पेक्टर आशा सेजकर ने सुनीता का हाथ पकड़ लिया। इस पर पहले तो सुनीता पैसे लेने से इनकार करने लगी और झूठे आरोप लगाने की बात कहते हुए अकड़ दिखाने लगी। बहुत देर तक उसकी बात सुनने के बाद इंस्पेक्टर सेजकर से रहा नहीं गया और उन्होंने टेप रिकार्डर में लेनदेन की बात टेप है, सुनाया और टेबल की दराज खोल दी। दराज खुलते ही उसमें से रिश्वत के रुपए निकल आए। पैसे दिखाने पर दोनों महिला पुलिसकर्मियों की अकड़ ठंडी पड़ गई। बाद में दोनों यह कहकर माफी मांगने लगीं कि हमसे गलती हो गई है। हमें माफकर दो, ऐसा फिर कभी नहीं होगा। बाद में दोनों के खिलाफ भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत प्रकरण दर्ज कर गिरफ्तार किया और उसी समय जमानत भी दे दी।

फोटो – संदीप जैन।

Soruce: Dainik Bhaskar

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s